नए आलेख

साहित्य

जब भी कुछ लिखा, उनकी याद आई

श्री फणीश्वर नाथ रेणु उनको पहली बार देख कर बिना किसी से पूछे समझ लिया था, आप निश्चय ही बिहार के प्रसिद्ध राजघराना के सदस्य हैं, जो जमींदारी प्रथा समाप्त होने के पहले ही राजनैतिक घराना में बदल चुका है। अतः उनको देखते ही मेरी आँखों के सामने राजा की पार्टी का झंडा आ जाता, और कानों […]

देश राजनीति

लोजपा ने दिलचस्प बना दिया है बिहार का चुनाव

साहित्य

जब भी कुछ लिखा, उनकी याद आई

श्री फणीश्वर नाथ रेणु उनको पहली बार देख कर बिना किसी से पूछे समझ लिया था, आप निश्चय ही बिहार के प्रसिद्ध राजघराना के सदस्य हैं, जो जमींदारी प्रथा समाप्त होने के पहले ही राजनैतिक घराना में बदल चुका है। अतः उनको देखते ही मेरी आँखों के सामने राजा की पार्टी का झंडा आ जाता, और कानों […]

साहित्य

लेखकीय संघर्ष में कोई बाइपास नहीं होता

 डॉ. देविना अक्षयवर शिमला! ‘क्वीन ऑफ़ द हिल्स!’ अँग्रेज़ों के ज़माने से ही इस नाम से प्रसिद्ध यह शहर अपने प्राकृतिक सौंदर्य, शीत जलवायु और ऐतिहासिक एवं भौगोलिक विशेषताओं के चलते एक महत्त्वपूर्ण पर्यटन स्थल रहा है। अमूमन हम शिमला को भी इसी रूप में जानते हैं और यही समझते हैं कि यह शहर तो […]

अन्य समाज

आरती साहा गुजरे जमाने की याद भर नहीं हैं

गूगल पर आज आरती साहा का जिक्र है। आरती साहा? बहुत ही जाना-पहचाना सा लगा यह नाम। देर तक सोचता रहा कि कहां सुन रखा है पर याद को बहुत कुरदने के बवाजूद ध्यान न आया। फिर गूगल का ही सहारा लेना पड़ा। अरे हां! आरती साहा!! इंगलिश चैनल को पार करने वाली पहली भारतीय […]

संपादकः रंजन कुमार सिंह

मुक्तकण्ठ ऑनलाईन हिन्दी पत्रिका
Mukta Kantha Online Hindi Magazine

नए आलेख नियमित प्राप्त करें

Join 2,483 other subscribers

कितनों ने देखा

  • 21,874 लोगों का आभार, जिन्होंने हमें समर्थन दिया।

लोकप्रिय आलेख

आप की बातें

रंजन कुमार सिंह की पुस्तकें

%d bloggers like this: