साहित्य

मौसम जुआ-जुआ

रंजन कुमार सिंह मेरे मित्र ने हर साल की तरह मुझे दीपावली के पहले भोज का निमंत्रण दिया तो मुझे याद हो आया कि जुआ का मौसम आ चला है। दरअसल, साल में एक बार ही हमें उनके घर से बुलावा आता है और वह भी ठीक दीपावली से पहले। मित्र सरकारी सेवा में हैं […]

साहित्य

नरेश सक्सेना की कविता

नरेश सक्सेनाजी हिन्दी के उन कवियों में हैं, जो काव्य मंच से लेकर पाठ्य पुस्तकों तक में एक साथ स्थापित हैं। उन्होंने फिल्म भी बनाई है, जिसके लिए उन्हें सम्मान भी मिल चुका है। यहां प्रस्तुत है कवि के ही श्रीमुख से उसकी एक कविता – संपादक