समाज

दक्षता की जरूरत

कुशलता सफलता की कुंजी है। जो कुशल है, वही सफल भी हो सकता है। पर कुशलता किसी को रातों-रात हासिल नहीं हो जाती। इसके पीछे वर्षों की मेहनत जुड़ी होती है। हरेक व्यक्ति में प्रतिभा होती है। यह प्रतिभा ईश्वर का वरदान है। पर कुशलता तो हम खुद से ही हासिल करते हैं। कुशलता प्रतिभा […]

देश समाज

अधिसंख्य किसान तो खड़ी फसल बेचने को ही मजबूर

कृषि कानूनों को लेकर माहौल गरम है। लंबे समय से किसान दिल्ली को घेरे बैठे हैं और दिल्ली उनकी बात सुनने को तैयार नहीं है। मैं कोई विधिवेत्ता तो हूं नहीं कि इस विवादास्पद अधिनियम के वैधानिक पहलुओं पर अपनी कोई राय दे सकूं, पर कुछ व्यावहारिक कठिनाइयां जो मुझे सूझ पड़ती हैं, उन्हीं जरूर […]

अन्य समाज

आरती साहा गुजरे जमाने की याद भर नहीं हैं

गूगल पर आज आरती साहा का जिक्र है। आरती साहा? बहुत ही जाना-पहचाना सा लगा यह नाम। देर तक सोचता रहा कि कहां सुन रखा है पर याद को बहुत कुरदने के बवाजूद ध्यान न आया। फिर गूगल का ही सहारा लेना पड़ा। अरे हां! आरती साहा!! इंगलिश चैनल को पार करने वाली पहली भारतीय […]

पेंगांग लेक
अन्य देश राजनीति समाज संस्कृति साहित्य

पेंगांग त्सो और चीनी होटल

ऊपर आप जो चित्र देख रहे हैं, वह पेंगांग त्सो का है। त्सो लद्दाखी में झील या लेक को कहते हैं। यानी यह पेंगांग लेक है, जो इन दिनों खबरों में बना हुआ है। मैं यहां तीन बार जा चुका हूं और हर बार मैंने इसे नए नजरिये से देखा है। पहली बार मैं यहां […]

समाज साहित्य

अग्निपरीक्षा

डा0 विद्या सिन्हा अग्निपरीक्षा शब्द सीता के जीवन से निकल कर एक बड़ा प्रतीक बन गया । जीवन की कठिन परिस्थितियों से गुजरते हुए हम इस शब्द का प्रयोग करने लगे,बोल-चाल में भी। इस शब्द के इतिहास के साथ जो गंभीर सवाल जुड़े हैं, उन्हें हम राम को भगवान, मर्यादा पुरुषोत्तम और राज धर्म का […]